Saturday, March 10, 2018

ज़िन्दगी को गले लगा लें ...!


एक रिश्ता सा बन गया है 
अब तो जैसे 
खांसी न आये तब भी 
लगता है आ रही है !
सांस चल रही है ज़िन्दगी की 
मगर ऐसा लगता है अब 
खांसकर तबाहकर  
अब गयी तब गयी !
मौत भी एक फरिश्ता है 
जो के रिश्तों की तरह 
बेकार होगयी जाने क्यों 
झांसा देकर चली गई !
ज़िन्दगी को गले लगा लें 
शायद इसे बहका सकें 
हंसती है दूर से मगर 
पास से रुलाती है !

~ फ़िज़ा

No comments:

भेद-भाव का न हो कहीं संगम !

कविता पढ़ने -सुनने की नहीं है इसे पहनो, पहनाने की ज़रुरत है वक्त बे वक्त बरसों से ज़माने में हैं महाकवि से लेकर राष्ट्र कवी तक हैं देश ...