Sunday, August 21, 2016

नयी धुप नयी हवा है चिलमन में


धुप की किरणों में सहलाते बदन 
रूह को जलता क्यों छोड़ देते हैं 
इन दरख्तों से सीखो क्या कुछ ये सहते हैं !

पंछियों की चहचहाहट मानो कुछ कहती हैं 
तुम समझो या न समझो गीत ज़रूर सुनाती है 
कभी मुड़के देखा है कितना कुछ समझाती है!

नज़रअंदाज़ करते हो कब तक और क्यों?
हवा अपना रुख बदलती है हर वक़्त, फिर भी 
समझने वाले समझते हैं देर आने तक!

बंजर ज़मीन सूखे पत्ते बंजर फर्नीचर 
पुकारते हैं, सुनाते हैं एक अनसुनी कहानी 
चलो उठो, अब तो संवारने की घडी आगयी!

नयी धुप नयी हवा है चिलमन में 
कॉफी का प्याला हाथ में लिए 
नयी डगर नए एहसास लिए निकल पड़ते हैं... !

~ फ़िज़ा 

No comments:

मोहब्बत ही न होता तो मैं कहाँ होता?

मोहब्बत में मैं नहीं होता तो खुदा होता  मोहब्बत ही न होता तो मैं कहाँ होता? फ़िज़ा में दिन नहीं होता तो क्या होता?  दिन नहीं जब हो...