Saturday, April 23, 2016

आगे बढ़ो !



कहते हैं ग़लतियाँ करो 
आगे बढ़ो !
जीवन है बेहने का नाम 
आगे बढ़ो !
सफर कठिन है फिर भी 
आगे बढ़ो !
हार गए तो क्या उठो और 
आगे बढ़ो!
फिसले तो संभलो फिर भी 
आगे बढ़ो!
जीवन का नाम ही चलना है तो 
आगे बढ़ो!
जब आना और जाना अकेले है तो 
आगे बढ़ो! 
तुम ही तुम्हारे दोस्त हो और दुश्मन भी 
आगे बढ़ो!
मरना सभी को है एक दिन तो 
आगे बढ़ो!
उम्र दराज़ में लाये हो या नहीं 
आगे बढ़ो!
ज़िंदादिली का नाम ही ज़िन्दगी है 
आगे बढ़ो!

~ फ़िज़ा 

No comments:

भंवरें भी गुंजन गायेंगे !

पतझड़ का मौसम आया  और चला भी जायेगा  पुराने पत्ते खाद बन कर  नए कोपलें शाख पर  सजायेंगे ! तन्हाई भी कभी रूकती नहीं     रहगुज...