Wednesday, October 29, 2014

मुझे दीवाना ना कर बांवरे ...




मुझे दीवाना ना कर बांवरे 
अपनी अदाओं से ना छल सांवरे
मैं हो रही कमज़ोर जान रे
ना सता यूं मैं हो रही बावरी रे
धडकनो की धार तेज़ हो रही रे
आग कहीं लगी हैं बूझा जा मतवारे
किसी बहाने चले आ सुन छलिया रे
ना और तड़पा यूं दूर रेहाकर पिया रे
दूरी ना सही विरहा की घरी आई रे
बादलों को हटाकर चले आओ बरसात रे
भिगो दे मुझे अपने प्यार से मेरे सजना रे
आस मैं बैठी मैं तेरी दीवानी रे!
~ फ़िज़ा 

No comments:

ज़िन्दगी से क्या चाहिए ...

ज़िन्दगी के धक्कों में  कहीं जवानी और ज़िन्दगी  दोनों खो गयीं उम्र के दायरे में  रहगुज़र करते-करते  ज़िन्दगी से क्या चाहिए  ये भ...