Saturday, August 16, 2014

Kal zindagi mujhe dastakh de gayee ;)

कल ज़िंदगी मुझे दस्तख दे गयी 
जैसे हर बात की नयी शुरुवात हुई
फिर वोही जज़्बात वोही एहसास वोही वोही
ख्वाबों की बुनी मानो एक सेज़ सजी हुई
मुझे न्योता देकर बुलाने यूं लगी
हर्षोउल्लास का पल था फिर भी दिल घबार्‌यी हुई
ज़िंदगी गले से लगाकर बहुत देर तक साथ रही
फूलों का साथ, मोहब्बत का लिबास, यूं ज़िंदगी ब्याहिगाई
एक पल में ज़िंदगी जो कल तक थी मुझ से पराई
आज मुझे मेरे अपने करीब है पायी
शांत है दिल-दीमाग मानो ज़िंदगी, ज़िंदगी ना रही
कोई ये एहसास दिलाये मुझे के मुलाकात ज़िंदगी से ही हुई?
इसी एहसास के चंगुल में 'फ़िज़ा' अब भी झिलमिलाती रही!

~ फ़िज़ा
--------------
Kal zindagi mujhe dastakh de gayee 
Jaise har baat ki nayi shuruwaat huyee
Phir wohi jazbaat wohi ehasaas wohi wohi
Khwabon ki buni maano ek sez saji huyee
Mujhe nyota dekar bulaane yun lagee
Harshoullas ka pal tha phir bhi dil ghabaryee huyee
Zindagi gale se lagakar bahut der tak sath rahee
Phulon ka sath, mohabbat ka libaas, yun zindagi byahigayee
Ek pal mein zindagi jo kal tak thi mujh se parayee
Aaj mujhe mere apne kareeb hai payee
Shanth hai dil-deemag mano zindgi, zindagi na rahee
Koi ye ehasaas dilaye mujhe ke mulaquat zindagi se hee huyee?
Isi ehasaas ke changul mein 'fiza' ab bhi jhilmilati rahee!

~ fiza

No comments:

भंवरें भी गुंजन गायेंगे !

पतझड़ का मौसम आया  और चला भी जायेगा  पुराने पत्ते खाद बन कर  नए कोपलें शाख पर  सजायेंगे ! तन्हाई भी कभी रूकती नहीं     रहगुज...